सफलता का रहस्य

सफलता का रहस्य ?/ Secret of success in Hindi ?

Spread the love

सफलता का रहस्य ?/ Secret of success in Hindi ?

नमस्कार दोस्तों। आज हम बात करने वाली एक ऐसी विषय के बारे में जिसे हर इंसान को समझना बहुत ही महत्वपूर्ण है। सफलता का रहस्य इसे समझने के बाद आप या पूरी तरह समझ जाएंगे कि आपकी कार्यक्षमता किस तरह आपके जीवन पर एक बड़ा असर डालती है। अधिकतर हम सभी लोग अपने जीवन में अनेक अनेक कार्य करते हैं परंतु हमें यह पता नहीं होता कि हम जो कर रहे हैं उसके परिणाम हमें कितने समय बाद मिलेंगे।

सफलता का रहस्य
                                           सफलता का रहस्य ?

 

हालांकि स्वामी विवेकानंद जी ने कहा है अपनी पुस्तक “कर्म योग” में “मनुष्य को हमेशा निस्वार्थ होकर काम करना चाहिए उसे फल की चिंता बिल्कुल नहीं करनी चाहिए।”

लेकिन ऐसा हर इंसान के जीवन में मुमकिन नहीं है हम जो भी कार्य अपने जीवन में करते हैं उसका परिणाम पहले ही ज्ञात कर लेते हैं कि इस कार्य से हमें ऐसे परिणाम मिलने वाले हैं और उन परिणामों के द्वारा ही हमें मोटिवेशन मिलता है कि यदि हम इस कार्य में सफल होते हैं तो हमें यह परिणाम मिलेगा और हमारा परिणाम ही हमारा मोटिवेशन होता है ठीक उसी तरह हर इंसान के जीवन में उसके अंदर छुपा हुआ सफलता का रहस्य उसे ऊंचाइयों तक ले जाता है.

आखिरी यह सफलता का रहस्य क्या है अपनी कार्य क्षमता से अधिक कार्य करना या जो कार्य कर रहे हैं वह निस्वार्थ होकर करना। सफलता का रहस्य इसके ऊपर अनेकों पाठ लिखे गए लेकिन यहां पर हम आपको एक कहानी के द्वारा बताने वाले हैं कि आखिर क्या है सफलता का रहस्य जो सीधा उचित शब्दों में बताया गया है।

सफलता का रहस्य एक कहानी से समझिए ?

अमेरिका के चैंबर ऑफ़ कॉमर्स के प्रेसिडेंट ने कई साल पहले रिटायर होते समय आयोजित डिनर में एक कहानी सुनाई। वे अमेरिका के सबसे सम्मानित व्यवसायियों में से एक थे। उन्होंने उच्च गुणवत्ता के काम की ऐसी छवि विकसित कर ली थी, जिसके बारे में बिज़नेस का हर व्यक्ति सपने देखता है। उन्होंने कहा कि जब वे युवावस्था में असफल और कुंठित थे, तो उन्हें एक हाई स्कूल के बुलेटिन बोर्ड पर एक भूरे लंच बैग पर एक कहावत दिखी।

उस बुलेटिन बोर्ड के पास से गुजरते समय उन्होंने लंच बैग पर लिखे वे शब्द पढ़ लिए। वे शब्द थे, “आपसे जितना काम करने की अपेक्षा की जाती है, उसके बाद आप जितना ज़्यादा काम करते हैं, उसी के अनुपात में जीवन में आपकी सफलता तय होगी।”

उन्होंने श्रोताओं को बताया कि इन शब्दों ने उनकी जिंदगी बदल दी। अपने कैरियर में उस वक़्त तक उन्हें महसूस होता था कि अगर वे दूसरों की अपेक्षा के मुताबिक़ और सौंपा गया काम कर रहे हैं, तो इतना ही काफी है। लेकिन उस बिंदु के बाद उन्होंने संकल्प किया कि उनसे जितने काम की उम्मीद की जाती है, वे उससे बहुत ज़्यादा काम करेंगे।

उन्होंने संकल्प किया कि वे हमेशा एक मील आगे तक जाएंगे और जितना भुगतान मिलता है, उससे ज़्यादा काम करेंगे। उस दिन के बाद अपने बाकी कैरियर में वे थोड़ी ज्यादा जल्दी उठे, थोड़ी ज़्यादा मेहनत की और देर तक रुककर काम किया। वे एक काम से दूसरे काम तक और एक ग्राहक से दूसरे ग्राहक तक ज्यादा तेज़ी से गए। यही हमेशा होता है।

वे जितनी तेज़ी से बढ़े, उन्हें उतना ही अनुभव मिला। उन्हें जितना ज़्यादा अनुभव मिला, वे अपने काम में उतने ही बेहतर बनते गए। वे जितने ज़्यादा बेहतर बनते गए, उन्हें कम समय में उतने ही बेहतर परिणाम मिलते गए। कुछ ही समय में उन्हें ज़्यादा भुगतान मिलने लगा और उनकी ज्यादा तरक्की होती गई।

हमेशा अपेक्षा से ज्यादा काम करने और ज्यादा तेज़ी से बढ़ने के कारण वे अपने कैरियर में फास्ट ट्रैक पर पहुंच गए और तेजी से आगे बढ़ने लगे। जल्दी ही उन्हें प्रमोशन देकर एक नए डिपार्टमेंट में भेज दिया गया, फिर एक नए उद्योग में रखा गया और ज़िम्मेदारी का नया क्षेत्र सौंपा गया। हर मामले में उनकी रणनीति एक ही थी।

जितना भुगतान मिलता है, उससे ज्यादा करो। दूसरे जितनी उम्मीद करते हैं, उससे ज्यादा करो। एक मील ज्यादा चलो। व्यस्त रहो।चलते रहो। कर्म करो। समय बर्बाद मत करो। और उन्होंने दोबारा कभी मुड़कर नहीं देखा।

Do 1% more work every day ?

इस कहानी का तात्पर्य है की हम अपने जीवन में जो भी कार्य करें उसे पूरी ईमानदारी और निष्ठा के साथ करना है निस्वार्थ बनकर और हमें हर दिन 1% ज्यादा काम करना है पहले से।

सफलता का रहस्य
                             सफलता का रहस्य ?

यदि 100 लोग 100% दे रहे हैं उसी एक काम को और आप 1% ज्यादा मतलब 101% देते हैं उसी काम को तो आप उनसे एक कदम हमेशा आगे रहेंगे।

एलोन मस्क कहते हैं यदि आप हर हफ्ते 80 से 100 घंटे काम करते हैं तो यह आपकी सफलता के मौके को बढ़ा देगा।अगर बाकी लोग हफ्ते में 40 घंटे काम कर रहे हैं और आप 100 घंटे और अगर आप वही चीजें करते हैं जो वे कर रहे हैं तो आप जानते हैं कि जो चीजें हासिल करने में वे 1 साल लगाएंगे वही आप उसे 4 महीने में हासिल कर लेंगे। सफलता का रहस्य आपके कार्यक्षमता पर निर्भर करता है कि आप अपना कितना प्रतिशत दे रहे।

दोस्तों यदि आपको ( सफलता का रहस्य ) इससे कुछ सीखने को मिला है तो आप इसे अपने दोस्तों को शेयर करें जिससे उनकी भी मदद हो सके। हमारे साथ बने रहने के लिए आपका प्रेम पूर्वक धन्यवाद।

One thought on “सफलता का रहस्य ?/ Secret of success in Hindi ?

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *